सो रहे हैं वोह, जो किस्मत के भरोसे हैं |

सो रहे हैं वोह, जो किस्मत के भरोसे हैं |
जग गए हैं वोह, जिन्हें कुछ करना है |

सुबह का सूरज चढ़ता है,
और दिन भर पिघलता है |
उसके संघर्ष में काव्य है,
वोह कर्म प्रज्वलित करता है |

मैं भी उठता हूँ रोज़ सुबह,
उस सूरज से कुछ अग्नि लेकर |
मेरा भी नाम तुम गिनन लेना,
उस सांसारिक काव्य की रचना में |

ये पक्षी , पवन, पशु, नर-नारी ,
सब चलते हैं रोज़ सुबह |
एक नए इतिहास क़ि रचना में ,
तब-ही इतिहास बदलता है |

सो रहे हैं वोह, जो किस्मत के भरोसे हैं |
जग गए हैं वोह, जिन्हें कुछ करना है |

उस मानव पथ पर चलना है |
जहाँ चलना गिरना फिसलना है |
और उठ के हर पल चलना है,
उन्ही दो पंक्ति को रचना है |

सो रहे हैं वोह, जो किस्मत के भरोसे हैं |
जग गए है वोह, जिन्हें कुछ करना है ||

– विशु मिश्रा

सो रहे हैं वोह, जो किस्मत के भरोसे हैं |

सो रहे हैं वोह, जो किस्मत के भरोसे हैं |

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s