सहर

vishu mishra
alias:captnjacksparrow

सहर

किसी शोर मचाती सनसनाती,
हवा के झोके ने |
किसी पतझध के आखिरी मौके पे,
और अपने  घर को संझोते हुए,
किसी पक्षी ने ,धोके से,
वो आखिरी पत्ता भी तुडवा दिया |

और इस महान दृश्य के मौके पे,
सूरज की किरण चमकने से,
मेरे बरगद से ज्ञान को महका दिया |
हर सुबह के अट्टहास में,
बिन बारिश के भी,इस  इतिहास ने,
आज फिर, मेरे प्यासे मनन को महका दिया |
किसी और के इंतज़ार में, मैं चला किसी ओर |
किसी लहर के इंतज़ार में, जैसे थमा कोई छोर |
हर किरण की लालसा में यूँ बढती मेरी ओर,
और बढ़ता चला जा रहा निरंतर;इस कोलाहल का शोर |
और  बढ़ता चला जा रहा निरंतर ,ये अन्धकार मेरी ओर  ||

और हर एक  पल,एक -एक  शन  को जी कर,
मेरा मनन,ये पक्षी और बस मैं |
इन् शनों में जीता चला जा रहा बस मैं…
इस लिए में बरगद हूँ |
चुप चाप अपने लम्हों को समेटे हुए,
उसी पल,
बादलों को अपनी और बढता देख रहा हूँ |
क्या ये बारिश का पल होगा,
या एक और रात का कहर,
या फिर सोचते हुए उस सूरज  की तपिश को,
मै जियूंगा,इक और रात का सहर ||

विशु मिश्रा
तिथित: 20-10-2008

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s